Monday, June 11, 2018

ख़्वाबों की मस्ती

इस दिल के झरोखों से कहीं
ख़्वाबों की मस्ती दिखती है
मन के हर कोने में बसी
चाहत की बस्ती दिखती है
फूलों में कहीं कोंपलों में कभी
बाग़ों की बहार में दिखे कभी
अपनेपन की मस्ती रहती है

कभी देखूँ धरती को मैं
आसमाँ में कभी झाँकूँ
तारों में चंदा सूरज में
नदियों और पहाड़ों में
पेड़ों के पत्तों हर डाली में
एक कसक सी बसती है
मन के हर कोने में बसी
चाहत की बस्ती दिखती है

हमदम मेरे और हमसफ़र
सुख के मेरे दुःख के साथी
हर पड़ाव में हर प्रयास में
हर पल जीवन के लम्हों में
मेरी मुहब्बत हँसती रहती है
मन के हर कोने में बसी
चाहत की बस्ती दिखती है