Saturday, December 28, 2013

अलग़-अलग़

कल वक़्त अलग़ था
आज बात अलग़ है
कल लोग अलग़ थे
आज साथ अलग़ है
कल नाउम्मीदी सुबक रही थी
आज उम्मीद सुलग रही है
कल अंधकार था दावानल का
आज़ मधुमास की शीतलता है
कल उष्ण-शीत मौसम था
आज वसंत बहार छाई है
कल रुसवाइयाँ बहुत थीं
आज अच्छाइयों की लत है
कल सही बात ग़लत थी
आज ग़लत बात ग़लत है
कल वक़्त अलग़ था
आज बात अलग़ है

चेतावनी

मेरी स्वप्निल आशाओं के
दीप जलाने आए हो तुम
कितनी स्वर्णिम भाषाओं के
गीत सुनाने आए हो तुम
जन-गण की अभिलाषाओं की
अलख जलाने आए हो तुम
दिग्भ्रमित जनों के दिशा ज्ञान के
निर्देशक बन आए हो तुम
भयहीन विचरते भ्रष्टों को अब
चेतावनी बन आए हो तुम
कितनों की अंतिम इच्छाओं के
बन के पूरक आए हो तुम
चीर सभी पग-बाधाओं को
नव-दीप जलाने आए हो तुम
नई रौशनी के द्योतक बन कर
उम्मीद जगाने आए हो तुम
यश भी हो मार्ग प्रशस्त रहे
जो कार्य सफल करने आए हो तुम
खुद भी हम सब से साथी से
आम को ख़ास बनाने आए हो तुम

इस नए साल में

इस नए साल में हर नई बात हो
ग़म न कोई रहे बस ख़ुशी साथ हो
आज के साथ कल की भी बात हो
मेरी-तेरी नहीं हम सभी की बात हो
भूल कर भी कोई भूल हमसे न हो
कोई मसला अगर आपसी बात हो
सब की शिरक़त का ऐसा आग़ाज़ हो
मुझसे पहले वतन ऐसे ज़ज्बात हों
है ये साझा ख़ुशी है ये साझा जहाँ
तेरी ख़ुशियों में मेरी ही सौगात हो
दुश्मनों की हो अब दुश्मनी से दुश्मनी
यूँ अमन चैन की ऐसी बरसात हो

Wednesday, December 25, 2013

कौरव कौन, कौन पांडव ~ अटल बिहारी वाजपेयी

कौरव कौन
कौन पांडव,
टेढ़ा सवाल है|
दोनों ओर शकुनि
का फैला
कूटजाल है|
धर्मराज ने छोड़ी नहीं
जुए की लत है|
हर पंचायत में
पांचाली
अपमानित है|
बिना कृष्ण के
आज
महाभारत होना है,
कोई राजा बने,
रंक को तो रोना है|

Monday, December 23, 2013

Shades of Color

With the change in the time
Change those colorful views
Of all mornings and evenings
The whole scene of horizon
As if any painter has colored
So skillfully his painting this
A canvass of the sky around
Lends its length and breadth
To be painted with the brush
Of nature and light’s effects
Yet the patterns so random
Each day a different pattern
Often with blends of clouds
The varying shades of lights
Adding beauty for the eyes
Inviting humans to emulate
Intent to make others happy

Welcome! New Year

Welcome, yet another New Year
Awaited for three sixty five days
I know you are just a symbol only
For us to review and recapitulate
All our achievements and failures
And a reminder to start all afresh
Where we have had the slippages
The new benchmarks of successes
The revision of our ambitions too
With open mind and a fresh look
To look at our happiness quotient
For making self and others happier
Learning to live with imperfections
Undeterred with all those failures
Above all being the good citizens
In society being good Samaritans
Practitioners of the joy and peace
Contented yet striving for better
Leave behind our memory, legacy
For the cause of goodness for all

Friday, December 20, 2013

My tryst with Nepal

When I arrived in Nepal in August 2009, I had a lot of questions and perceptions in mind. Having known few things about Nepal from my childhood days, I was happy to witness these things myself and observe the system and practices in governance; as well as in the society and culture.

The landing at Kathmandu and taking a cab was a pleasant surprise as everything was so similar here including music and culture as in India. Everyone would think that I am Nepali only, for my looks, and some understanding of Nepali.

When I reached GON office for my assignment also, I noticed that I was recognised as Nepali until I disclosed my identity for work on introduction. Even having been recognised everyone was very warm and would ask me everything about India and Indian systems. After a while, I realised that almost all systems, acts, rules and procedures were similar as in India. This gave me a 360° view even in my initial days. I also noticed that people at times were critical of India (a big brother phenomenon) but soon they realised that I report and work for IMF and stayed away from any such controversies as any rational man should on Indo-Nepal issues. In no time people started appreciating that I focus mainly on Nepal and for their reforms agenda; and my objective was of helping develop new and reformed PFM systems.

Soon I realised that Nepal, who always claimed about low capacity, actually had no major capacity constraints and it was just a mindset that capacity was low. In real sense, it needed reorientation to the good practices and monitoring them to work the path of reforms and by making them ‘change agents’ themselves. The idea clicked and we soon witnessed that in spite of transition issues and capacity reasons, through the national system and capacity changes started happening.

Few things were important to achieve. These were: initiative of top leaders, leadership by MOF/FCGO, intent and support of staff to change to new systems, and political consensus on reforms. We saw them all happen and advancing.

As the things started happening ‘the cat was out of the bag’ and everyone started talking about success of TSA and cross-cutting reforms. Suddenly, the FCGO was in focus on reforms and managing them all by themselves. The new donors now agreed to extend the olive-branches and things took a new course. Now funding for reforms is no issue for any good project on PFM.

The role of MOF, FCGO and above all the districts staffs had been exemplary to carry out reforms. Ultimately, it is the staff at the ‘grass root levels’ have to implement reforms; and they all rose up to all challenges and withstood tests of time.

I encouraged FCGO and staffs to visit India and see their systems; and every year 50 or more officers visited. The Embassy of India were generous enough to bear all the expenses on this and the ‘bilateral cooperation’ continues now. Now the reforms coordination is with PEFA Secretariat located in FCGO, who will coordinate major reforms, activities and be a nodal point for all reforms initiative and their implementation. It sounds great to have such a mechanism in place.

We must extend due credit to the GON and their staff for their commitment and implementation of reform something that was never felt missing. Now that I am done with my assignment, I wish all GON staff and officers the best of governance and happy life ahead. I will cherish the memories of Nepal (my home away home) always in my heart. I am always just an email or phone call away for any help that I can extend for anyone.

उफ़ ये कोहरा!

उफ़! ये घना कोहरा
अहसास कराने लगा है
मेरे आस-पास के
लोगों और स्थानों के
अस्तित्व में समाये
अंदर के कुहासे का
धूप में उजले दीखते
वास्तविक रंगों में हैं
इनके मिज़ाज़ों से
ठीक मिलते-जुलते
अपारदर्शी या पारांध

Thursday, December 12, 2013

Mutually Exclusive

I often wonder about
What’s more important
The foresight or hindsight
I get equivocal answers
Both have their weight
They might be the twains
But are very much related
Have a go-together way
With all the distances
They share a correlation
Of vision and correction
Anyway it’s true to me
They are not for sure
Ever mutually exclusive

Wednesday, December 11, 2013

फेरी भेटूला

जिन्दगी को बाटो कस्तो
उकालो छ उरालो छ
फेरी पनि हिँड्दा खेरि
यक्दमे रमाइलो छ
खुशी सँग दुख पनि
हरेक तिरा बाँधियो को छ
तर खुशी छ बढी मा यहाँ
दुख को पनि अलि पालो छ
नयाँ नयाँ मान्छे यहाँ
नयाँ कति ठाउँ छन्
आज हिजु भोलि थियो
पुरानो कति नौलो छ
तपाईं सँग भेट्दा खेरि
परार पनि पोर पनि
आजै जस्तो चितायो छ
यो माया को कुरा पनि
कस्तो मीठो रमाइलो छ
जानी बेला आइ पुग्यो
अब नयाँ घर जानो पर्यो
तपाईं को माया समेट्दा खेरि
सबै मीठो पायो छ
टाडा अब नजीक हुन्छ
फेरी भेटूला पटक पटक
जब पनि संयोंग हुन्छ
यहि चाहना आए को छ

Tuesday, December 10, 2013

चाँदनी में रंग

जब गुलों ने चमन से पूछा
चाँदनी में रंग कहाँ जाते हैं
चमन ने किया था ये इशारा
हसीनों को सँवारने जाते हैं
दिन भर तुम को देख-देख
लोग तुम्हारे से रँग जाते हैं
गुल माने चमन का बयान
अच्छा है हम मान जाते हैं
हम भी उन्हीं के साथ-साथ
अपनी क़िस्मत पा जाते हैं

Melancholy

Faith was healer
When people
Didn't delve deep
Remained reassured
With determinism
And divine ways
Times have changed
Everyone confused
Many people
Adding to confusions
To make a living
Out of someone else
Taking advantage of
People with
Agnostic feeling
Or living with
A melancholy

Monday, December 9, 2013

Trajectory of Life

We live our lives
As it travels
Through its own
Trajectory here
In several covers
And many colors
Life may well be
Dry like these
Paper flowers
But it still is
Very beautiful!

तुम्हारे साथ

तुम्हारे साथ मौसम रंग बदलने लगते हैं
ख़ुदबख़ुद कुछ एहसास गुनगुनाने लगते हैं

वक़्त की रफ़्तार जाने क्यों ठहरने लगती हैं
कोई भूली बिसरी सी ख़ुशी चहचहाने लगती हैं

कोई अंज़ाने से ख्याल मन गुदगुदाने लगते हैं
तन-मन में कोई संगीत का नशा छाने लगता है

दरबदर गुज़रती हवाओं में मदहोशी छा जाती है
सूखे मौसम में भीगी-भीगी झलक छाने लगती है

तुम हो तो गुलशन में खिंज़ा नहीं दिखाई देती हैं
पतझड़ में भी बहारों की सी महक आने लगती हैं

Friday, December 6, 2013

सिमट रही ज़िन्दगी

इतने क़रीब से देख जीने पर भी
कभी समझ में नहीं आती ज़िन्दगी
मानो कल की ही सी बातें हैं सब
लेकिन एक अरसा पुरानी ज़िन्दगी
जाने कब के गुज़रे पल आज भी
बड़े ताज़ा से लगने लगते हैं यहाँ
जगह, लोग, उनकी अपनी बातें
वक़्त के साथ कड़वी भी मीठी सी
एक ठहाके के साथ याद ये ज़िन्दगी
हर पल बिना कोई एहसास कराये
गुज़र जाता है यहाँ बड़ी ज़ल्दी ही
ज़िन्दगी का अपना है ये सिलसिला
रफ्ता रफ्ता सिमट रही है ज़िन्दगी

Thursday, December 5, 2013

Fire and Ice / आग और बर्फ

आसमाँ में आग उगलते सूरज में ही नहीं
यहाँ बर्फ के सीने में भी दहकती आग है
ये भी सच है आग का अपना मिज़ाज़ है
पर सफ़ेद बर्फ का भी अपना ही अंदाज़ है
यहाँ जलन आग से भी होती है बर्फ से भी
मग़र सुकून देने का भी उनका आगाज़ है
जिसे जैसा समझ आता उसका खयाल है
अब और क्या कहें बस बयाँ-ए-इजाज़ है
Not just the Sun yields fire in sky
The pectus of ice too has fire flame
It's also true that fire has its way
But ice too has it's very own nature
Burns are caused by both fire and ice
Both have own ways to comfort us
As anyone understands is his view
What else do I say than miraculous

Wednesday, December 4, 2013

The Politics of Sharing Power

One of the best things I know about the democracy is the 'in spite of all its problems and criticisms, it still is the best system of State'. Historically, we all have seen that even the benevolent monarchs and rulers were none less that functioning as the dictatorial regimes. The communist systems never saw the communism which was envisioned with the 'withering of the State'; it actually turned out to be a 'dictatorship of the new privileged class' resulting in the fact that the 'dictatorship of proletariat'withered away!

Democracy without clear majority has proved disastrous in all countries, that ruined the whatever ethics in politics was left; and exacerbated the vested interest groups to flourish and spoil the whole environment of governance; by blackmailing the bigger political parties. The have been happy doing this all through and are in the position of ' eat the cake and have it too'. In times of lack of majority, it is believed that they have their consideration to negotiate the positions in power to share; and also the ulterior ways of being a 'salable commodity'. This vitiates the whole atmosphere of the governance, the civil service; and the democracy at work!

Whoever is the main ruling party the smaller groups and individuals eye their 'pie in the cake'; and also have their names intact on the 'icing of the cake'. In the name of national consensus parties may play dubious role and do the internal damages to further their own party interests.

Unfortunately the people still don't understand these dubious designs that eat up the public systems like the termites and are more damaging than the dictatorial regimes. With the low levels of transparency, accountability and lack of quicker justice system, they thrive in their ways, without actually punished.

The remedy lies in voting a majority government; and increased transparency, accountability, ombudsman; and simple and quick justice system!I know it may be far from reality to achieve; but it is the only hope when people understand their role, duties and responsibility to save their countries from chaos and anarchy that may result in!

Else, the politics of sharing power will continue to thrive and the systems and practices that make democracy the best system will perish!


अर्वाचीन शिष्य

शिष्य आपका ज़रूर हूँ
किन्तु मेरी भी साधना है
आपकी इज्ज़त करता हूँ
आपकी बात भी मानूँगा
लेकिन एकलव्य नहीं हूँ
कर्त्तव्यपालन मैं करूँगा
लेकिन अंध-भक्त नहीं हूँ
आपकी भी विवशता होगी
इसमें मैं क्या कर सकता हूँ
आपका आदेश शिरोधार्य है
आपकी मदद कर सकता हूँ
लेकिन मेरा ये अँगूठा
काट कर नहीं दे सकता हूँ
मैं महाभारत काल का नहीं
एक अर्वाचीन शिष्य हूँ

Hand to Mouth

The Sun is about to set
And a long path is ahead
What can I do dear ones
Will brave the dark ways
Come home to make living
This scene is beautiful
But have no time to see
Have chosen to come fast
Before I meet worst fate
Of getting stranded here
Someone too my pictures
May think my great time
But ignoring my struggle
And this daily journey
Of my life as a routine
My hand to mouth fate!

Tuesday, December 3, 2013

Mother and Child

I always remember my days
My fond cherished memories
When you came in my life
My angel and sole purpose
All your ways so dear to me
Whether awaken or sleeping
Never tired listing chatter
Smiled at your tantrums too
As if I was reliving self
My own childhood with you
All anger, scoldings had
Ending in caress, cuddles
All forgotten with smiles
I always had time for you
To be your first teacher
I was always by your side
Reassuring some is with you
Happy with the achievements
And work keeping you so busy
Without any expectations
Without making complaints
Happy to be your Mother
An inseparable bond we have!


Way Beyond

I could see your affection
And trying to feel the love
Your movements and the eyes
Spoke what you couldn't say
Love beyond all boundaries
A lesson I learn from you
Love has its own language
Also message sending ways
The signals do get through
Without any of limitations
And the way beyond humans
Universal, eternal and true
Everyone can love you here
Provided you catch signals
Soul to soul and beyond it
One on one and way beyond

Resolve

Freezing weather, biting cold
No help from anyone whatsoever
And you had always thought
It's tough out there to live
But look at me and my smile
It's just a matter of resolve
And getting used to situations
Now don't tell me next time
That you can't bear situations
And the adverse circumstances
May your resolve help overcome
All your fears and weaknesses


Bondings

I'm not as stupid a being
As one would have thought
I knew there is no nectar
I just came for the color
Many people think around
Selfish one sticks around
I came for the admiration
Also to be by your side
For my feeling of bonding
Between us all these days
To whisper in your ears
That you are beautiful one
And I do like your company

Walk of Life

Enjoy the walk of your life
There might be Sun or rain
An umbrella can take care
Of these minor situations
Having come out for the walk
Experience those rainbows
Their unique arch of colors
Touching the heart and mind
The damp roads have no dust
Help enjoy walks way better
The life has its surroundings
Catering happy moments for
Those who walk these paths
brave it overcome inhibitions
Without making pretensions

Varied Rhythms

Life is like the deep waters
The ocean of the experiences
The ship of life taking places
Through oceans of many colors
Places of varying temperatures
Sometimes in the rough weathers
Many times through the icebergs
Of different size and shapes
Each time like the new tales
If there are frozen surrounds
Stagnant become those ships
Awaiting the better weathers
To proceed towards destinations
In those days of testing times
In the hope of the better times
Life sings songs of varied rhythms!


Monday, December 2, 2013

The crow

And you may have thought
The crow can't be sitting
Higher than you all
until it chose to fly!
Open your own inner eyes
There is nothing great
About you and your skills
Anyone can outsmart you
Sit quite and realize
You are one among billions
People, animals, birds
Insects and likewise
Each with competitive skills
May be better than you
Some, if not all of them
Try to remain humble
About self and the others
Even if you can do better!


Irrespective of


The sunset is around there
The onset of darkness too
Between the two phenomenons
The journey of life is fixed
Light to darkness sure true
Yet darkness is temporary
A phase for the new lights
Between the day and night
What comes first immaterial
This cycle gets continued
Both looking at each-other
As if reminding each-other
Of their common path of goal
The two wheels of the cart
Sound in action alternatively
But only with limited vision
They walk in tandem actually
Irrespective of the location!


Sunday, December 1, 2013

पंचवर्षीय अवसर

जो लोग खाते थे 'आम' पर
नहीं जानते थे आम आदमी
ज़रूरत अपनी थी तो आम
जब पूरी हुई तो बस खास
उम्र भर उन्हीं के नाम पर
बेचकर ईमान भी खाते रहे
हर मुसीबत पर उनकी जो
मीडिया में बहस करते रहे
उन्हीं के नाम पर सब दावे
पर उन्हीं के लिए न थे आम
ख़ुद के विवेक को समझाते
'आम खाओ मत गिनो पेड़'
अब आया पंचवर्षीय अवसर
चुनाव की खबर ही आम है
अचानक याद आ गया है अब
उन सभी को आम आदमी

तन्हाइयों के सहारे तन्हाइयाँ

कभी-कभी अब भी यहाँ
अच्छी लगती हैं
लेकिन कुछ डराती सी हैं
अब ये तन्हाइयाँ
तनहा माहौल जब
ख़ौफ़ज़दा लगता है
ख़ुद से बातें करता हूँ
अक्सर दिलासा देता मन
फिर भी कभी-कभी
नहीं साथ निभाता
मुझे कहीं दूर ले जाता
कुछ अपने कुछ अनजान
अतीत व वर्त्तमान के
सायों के आस-पास
एक गहन सन्नाटा
मौन के आगोश में
और डराने लगता है
ऐसे हालात में बस
तन्हाइयों के सहारे ही
रह जाती हैं तन्हाइयाँ


Saturday, November 30, 2013

उत्सव पतझड़ का

दुःख होता है इस ऋतु में
इन पत्तों का हश्र देख
इनके जीवन की कहानी
अनायास दीखती हैं
ये पतझड़ मात्र नहीं
संदेश है जीवन पथ का
आओ उत्सव मनायें
इन पीले पत्तों के साथ
जाते जाते भी रँग इनके
लुभावने हुए जाते हैं
फिर कोंपलों और
हरी व रंगीन पत्तियों की
नई-नई राह बनाते हैं
अपना सफ़र जीवन का
तय करते-करते भी
आने वाले कल का मार्ग
प्रशस्त किये जाते हैं

>

Warmth of Snow


We love the snowfall and around
Phenomenon so unique and dear
The all white snow and the ice
Just good enough to melt the ice
When two of us emulate them
The aesthetically crafted here
A snowman and snow-woman pair
In this biting cold we handhold
Trying to live this experience
Of warmth in the coldest times
With and around the nature
Making resolve of eternal love
Skidding and fumbling on ice
Lending helping hand to other
Even in the testing times too
Holding each other in arms
Together try living the bliss of
Togetherness in lives and time

जाड़ों की धूप


जाड़ों की धूप में जाना हमें अच्छा लगता है
तेरा ख़याल जो जाड़ों की धूप सा लगता है

इन सर्द हवाओं का साथ अच्छा लगता है
तेरा इधर आना ही धूप सा खिलने लगता है

हर तरफ ही धूप का तबस्सुम सा लगता है
ऐसी धूप में वक़्त बिताना अच्छा लगता है

दौलते इश्क़ की कोई नेमत सा यहाँ लगता है
जाड़ों की धूप में तन मन खिलखिलाने लगता है

ये भी रूप

सुना था बड़ी ठंड है यहाँ
लेकिन कम्बल के अंदर
तुम और हम पहली बार
बाहर लाज के परदे थे
यहाँ हम और कम्बल
यहाँ ठन्डे हुए हाथ तुम्हारे
अपनी हथेलियों में रख
गर्मी का एहसास हुआ
अब मेरे ये ठन्डे पाँव
तुहारे पैरों के बीच रख
तुमने गर्म करते करते
मेरी सुध-बुध भुला दी
आलिंगन और नज़दीक़ी
महसूस करते पहली बार
सिहरन तो ज़रूर हुई
लेकिन ठण्ड का नहीं एहसास
हमें महसूस हो गया
ये भी रूप और मिठास
इक़रार और प्यार का
दोनों साथ-साथ!

Friday, November 29, 2013

इश्क़


जान जाती रही मग़र है जान बाक़ी अभी
सलामती को जान की बस दुआ कीजिये

चन्द क़िस्से मोहब्बत के क़िताबों में हैं
इनको हक़ीक़त समझ न कहा कीजिये

इश्क़ एहसास भर बस है हक़ीक़त नहीं
जान की बाज़ियाँ यूँ न लगाया कीजिये

इश्क़ रब है या ख़ुदा है जिनको देखा नहीं
इसको क़िस्सा समझ पढ़ लिया कीजिये



Thursday, November 28, 2013

दिल या जेहन

दिल को दिल से शिकायत जो होने लगी
कोई ख़ूबसूरत शरारत भी होने लगी
देखना यही था ज़िन्दगी पर असर
आग दिल में लगी या जेहन में लगी

कितने गुंचे मोहब्बत में संजोये मगर
गुलों की किल्लत यहाँ क्यों होने लगी
इश्क़ हमने किया कोई नादानी नहीं
यकबयक ज़िंदगानी क्यों रोने लगी

अब मुक़द्दस मेरा इश्क़ ये हो गया
अब रूहानी कहानी रूमानी लगी
ज़िन्दगी जब जिये ज़िन्दगी की तरह
ज़िन्दगानी यूँ हर पल सुहानी लगी

Small world


With every comforting moment
I think of you and benefaction
That I always derived from you
Me! What is the my existence
If you are not together with me
And not around and behind me
Seeking solace in your company
Real or virtual or just imaginary
Whatever be that form it may
I’m overwhelmed with that all
This feeling of my companion
In and around me at all times
If this World is the truth it may
Or if it's imaginary it may so be
I am there to recognize you
In my existence and the essence
Of living in this small World!

भोर की लालिमा

चाँदनी में रँग छुपे सही
पर ये चाँद की कृतज्ञता है
सूरज के प्रकाश को
अपना न बताने की
चाँद की सी शीतलता हो
मौन सहित आकाँक्षाओं की
आकर्षक हैं जीवन के रँग
भोर की लालिमा से भी
सूचना देते नव प्रकाश की
सूर्य के तेज के आने की
भुवन रथ का आगमन
चमकती किरणों के साथ
पर्वतों और और बादलों के
निखरते रँग एवं दृश्य
यात्रा एक सतत पथ की
चराचर जगत की प्रतीक्षा की
हर सुबह नया सन्देश देती
एक नए दिन के प्रारंभ की
pic of a morning view in Pithoragarh..credit Sanjay Chauhan :)


Wednesday, November 27, 2013

Stolen Moments

When odd take over the lives
Patient and positive prevails
The times get past their ways
It’s just like we feeling feverish
A frisson of surprise at times
When an unexpected arrives
The moments of happiness
The bulls take on the bearish
Delving deep looking for joy
The days of darkness around
Those taught essence to live
I would always like to cherish
When sound like those so few
Endeared stolen moments from
The jaws of any depressions
Joy and happiness do flourish

Tuesday, November 26, 2013

कभी कभी यहाँ

कभी कभी यहाँ
मुझे तन्हाइयाँ सताती हैं
मगर डर नहीं लगता
मुझे तनहाइयों से
ये तो साथी हैं
मेरे जीवन की
मेरे नितांत व्यक्तिगत
दुर्लभ क्षणों की

कभी कभी यहाँ
मुझे डर लगता है
लोगों के बीच
उनकी डरावनी
मानसिकता से
उनके आचार-व्यव्हार से
उनकी अक्षुण्ण पिपाशा से
लेकिन भान होता है
मुझे भी रहना है
इन्हीं के बीच

कभी कभी यहाँ
मुझे डर लगता है
हो न जाऊं कहीं
मैं भी इन्हीं कि तरह
फिर अहसास होता है
जब तक मैं मेरा है मुझमें
मैं स्वयं से
बहाना कैसे कर सकता हूँ

Monday, November 25, 2013

कभी कभी यहाँ

कभी कभी यहाँ
मुझे तन्हाइयाँ सताती हैं
मगर डर नहीं लगता
मुझे तनहाइयों से
ये तो साथी हैं
मेरे जीवन की
मेरे नितांत व्यक्तिगत
दुर्लभ क्षणों की

कभी कभी यहाँ
मुझे डर लगता है
लोगों के बीच
उनकी डरावनी
मानसिकता से
उनके आचार-व्यव्हार से
उनकी अक्षुण्ण पिपाशा से
लेकिन भान होता है
मुझे भी रहना है
इन्हीं के बीच

कभी कभी यहाँ
मुझे डर लगता है
हो न जाऊं कहीं
मैं भी इन्हीं कि तरह
फिर अहसास होता है
जब तक मैं मेरा है मुझमें
मैं स्वयं से
बहाना कैसे कर सकता हूँ

मैं बदल गया हूँ

सब कहते हैं
मैं बदल गया हूँ
मैं नहीं मानता
हाँ ये सच है
सब बदल गया है
मेरे आस पास
लोग भी तुम भी
खेल, खिलौने
खान-पान
वेश-भूषा, पहनावा
स्कूल, शिक्षा
सवारी साधन
शहरों से गाँव तक
लोगों के आचरण
सब बदल गए हैं
मैंने स्वीकार किया है
इस बदलाव को
इस लिहाज़ से शायद
मैं बदल गया हूँ

Sunday, November 24, 2013

Whispers


As I wake up remember dreams
Start my dreams of open eyes
I need to catch at many things
Are my early morning thoughts
Things and views have changes
As the journey of day proceeds
Accomplishment and failures
They all become the experiences
Evening whispers in my ears
Now time to recapitulate comes
Before I have meals and I crash
Making the next day’s resolves
I try entertainment that helps
Of the days mind now dreams
And whole cycle thus continues
Whispering of the life continues

Wednesday, November 20, 2013

28th Anniversary with Uma

We still argue, scream; and forget
As if it is just a recent event in life
Together we've traveled 28 years
In beautiful togetherness of this life
Enjoying all sweet & sour moments
Everything adding a new joy to life
Having a constant companion a bliss
I pity those continue living single life
Everyday adding new experiences
The care and the mutual love grew
Through this travail and shared life
At times we dislike control by other
Then prevails the spirit of shared life
I know you don’t like to hear publicly
But that’s how I’m and my open life
Many happy returns of the Day Uma
I owe you many things in my life 

डर लगता है

मुझे डर लगता है
रातों-रात अमीर बनने के
लोगों के जज्बातों से
औरों का ख़ून चूस कर
अपनी झोली भरते लोगों से
कुछ भी कर गुजरने की
मंशाओं के जुनून से
उनके जीने के उसूलों से
बदलते वक़्त के साथ
लोगों की हवस की खातिर
ख़वातीन के हालात से
ख़ून ख़राबे और क़त्ल की
मज़हब के नाम पर
इंसानियत की रुसवाई से
सियासत और लोगों में
मुल्क़ तक दाँव पर लगा
अपनी तिज़ोरी भरने से
तरक्क़ी के नाम पर होती
हर चीज की तबाही से
अख़बार में ख़बरें पढ़ कर
अपने बारे में सोच कर
कुछ भी न कर पाने से

Tuesday, November 19, 2013

सनद रहे


पास आओ !
आज कुछ नया सोचो
पुराना बिसरा दो
मत बातें करो !
सिर्फ़ सरगोशियों से
आग़ोश में आ जाओ
सोचा कम करो !
भूल कर गिले शिक़वे
मोहब्बत में खो जाओ
आज़माया न करो !
मोहब्बत में आज़माना कैसा
बस डूब जाया करो
मोहब्बत करो !
ये सिर्फ़ रूमानी नहीं
रूहानी रिश्ता भी है
सनद रहे !
हम को समझाने से पहले
ख़ुद को समझाया करो

मैं और तुम!


मैं!
समझ लूँगा
ये कोई सपना था
टूट गया
तुम!
मत करना
रुसवाई मोहब्बत की
अपनी ही खातिर सही
अगर चाहो!
बेझिझक तुम
किसी और को दे देना
मेरे हिस्से की मोहब्बत
मैं!
कोई शिक़वा न करूँगा
बस दुआ करूँगा
तुम!
मेरी मोहब्बत तो
भुला न पाओगी
ख़ुश रहना
मुझे भुला देना!

सिंहासन हिल उठे: रचनाकार: सुभद्रा कुमारी चौहान



सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में भी आई फिर से नयी जवानी थी,
गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी।

चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

कानपूर के नाना की, मुँहबोली बहन छबीली थी,
लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी,
नाना के सँग पढ़ती थी वह, नाना के सँग खेली थी,
बरछी ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी।

वीर शिवाजी की गाथायें उसकी याद ज़बानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार,
देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार,
नकली युद्ध-व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार,
सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवार।

महाराष्ट-कुल-देवी भी उसकी आराध्य भवानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झाँसी में,
ब्याह हुआ रानी बन आई लक्ष्मीबाई झाँसी में,
राजमहल में बजी बधाई खुशियाँ छाई झाँसी में,
वीर बुंदेलों सी विरदावली सी वह आई झाँसी में।

चित्रा ने अर्जुन को पाया,शिव से मिली भवानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजियाली छाई,
किंतु कालगति चुपके-चुपके काली घटा घेर लाई,
तीर चलाने वाले कर में उसे चूड़ियाँ कब भाई,
रानी विधवा हुई, हाय! विधि को भी नहीं दया आई।

निसंतान मरे राजाजी रानी शोक-समानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

बुझा दीप झाँसी का तब डलहौज़ी मन में हरषाया,
राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया,
फ़ौरन फौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया,
लावारिस का वारिस बनकर ब्रिटिश राज्य झाँसी आया।

अश्रुपूर्ण रानी ने देखा झाँसी हुई बिरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

अनुनय विनय नहीं सुनती है, विकट शासकों की माया,
व्यापारी बन दया चाहता था जब यह भारत आया,
डलहौज़ी ने पैर पसारे, अब तो पलट गई काया,
राजाओं नव्वाबों को भी उसने पैरों ठुकराया।

रानी दासी बनी, बनी यह दासी अब महरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

छिनी राजधानी दिल्ली की,लिया लखनऊ बातों-बात,
कैद पेशवा था बिठुर में, हुआ नागपुर का भी घात,
उदैपुर, तंजौर, सतारा, करनाटक की कौन बिसात?
जबकि सिंध, पंजाब ब्रह्म पर अभी हुआ था वज्र-निपात।

बंगाले, मद्रास आदि की भी तो वही कहानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

रानी रोयीं रनिवासों में, बेगम ग़म से थीं बेज़ार,
उनके गहने कपड़े बिकते थे कलकत्ते के बाज़ार,
सरे आम नीलाम छापते थे अंग्रेज़ों के अखबार,
'नागपूर के ज़ेवर ले लो लखनऊ के लो नौलख हार'।

यों परदे की इज़्ज़त परदेशी के हाथ बिकानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

कुटियों में थी विषम वेदना, महलों में आहत अपमान,
वीर सैनिकों के मन में था अपने पुरखों का अभिमान,
नाना धुंधूपंत पेशवा जुटा रहा था सब सामान,
बहिन छबीली ने रण-चण्डी का कर दिया प्रकट आहवान।

हुआ यज्ञ प्रारम्भ उन्हें तो सोई ज्योति जगानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

महलों ने दी आग, झोंपड़ी ने ज्वाला सुलगाई थी,
यह स्वतंत्रता की चिनगारी अंतरतम से आई थी,
झाँसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छाई थी,
मेरठ, कानपूर, पटना ने भारी धूम मचाई थी,

जबलपूर, कोल्हापूर में भी कुछ हलचल उकसानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

इस स्वतंत्रता महायज्ञ में कई वीरवर आए काम,
नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अज़ीमुल्ला सरनाम,
अहमदशाह मौलवी, ठाकुर कुँवरसिंह सैनिक अभिराम,
भारत के इतिहास गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम।

लेकिन आज जुर्म कहलाती उनकी जो कुरबानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

इनकी गाथा छोड़, चले हम झाँसी के मैदानों में,
जहाँ खड़ी है लक्ष्मीबाई मर्द बनी मर्दानों में,
लेफ्टिनेंट वाकर आ पहुँचा, आगे बड़ा जवानों में,
रानी ने तलवार खींच ली, हुआ द्वन्द्ध असमानों में।

ज़ख्मी होकर वाकर भागा, उसे अजब हैरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

रानी बढ़ी कालपी आई, कर सौ मील निरंतर पार,
घोड़ा थक कर गिरा भूमि पर गया स्वर्ग तत्काल सिधार,
यमुना तट पर अंग्रेज़ों ने फिर खाई रानी से हार,
विजयी रानी आगे चल दी, किया ग्वालियर पर अधिकार।

अंग्रेज़ों के मित्र सिंधिया ने छोड़ी रजधानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

विजय मिली, पर अंग्रेज़ों की फिर सेना घिर आई थी,
अब जनरल स्मिथ सम्मुख था, उसने मुँह की खाई थी,
काना और मंदरा सखियाँ रानी के संग आई थी,
युद्ध श्रेत्र में उन दोनों ने भारी मार मचाई थी।

पर पीछे ह्यूरोज़ आ गया, हाय! घिरी अब रानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

तो भी रानी मार काट कर चलती बनी सैन्य के पार,
किन्तु सामने नाला आया,यह था संकट विषम अपार,
घोड़ा अड़ा, नया घोड़ा था, इतने में आ गये अवार,
रानी एक, शत्रु बहुतेरे, होने लगे वार-पर-वार।

घायल होकर गिरी सिंहनी उसे वीर गति पानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

रानी गई सिधार चिता अब उसकी दिव्य सवारी थी,
मिला तेज से तेज, तेज की वह सच्ची अधिकारी थी,
अभी उम्र कुल तेइस की थी, मनुज नहीं अवतारी थी,
हमको जीवित करने आयी बन स्वतंत्रता-नारी थी,

दिखा गई पथ, सिखा गई हमको जो सीख सिखानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

जाओ रानी याद रखेंगे हम कृतज्ञ भारतवासी,
तेरा यह बलिदान जगावेगा स्वतंत्रता अविनासी,
होवे चुप इतिहास, लगे सच्चाई को चाहे फाँसी,
हो मदमाती विजय, मिटा दे गोलों से चाहे झाँसी।

तेरा स्मारक तू होगी, तू खुद अमिट निशानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

Sunday, November 17, 2013

Moon in the Lake

Wow! I thought you’re just one
But the lake and its waves don’t
Thousands of Moons reflecting
The beauty of thee and the feel
In the two lakes of my eyes too
I’m beholding you too beloved
Making me to visualize my love
The glittering images of Moon
Also do multiply my visualization
Touching deep into my emotions
You are sounding omnipresent
Just like my feelings for my love

Saturday, November 16, 2013

चाँद तेरे कितने रूप

चाँद तेरे कितने रूप हैं
हर अदा में तू बेमिसाल
सूरज के छुपने के बाद तू
उसकी रौशनी की उष्णता
सह कर हम तक पहुँचाता
प्रकाश व उसकी शीतलता
अमावस के बाद आता है
तू दूज का चाँद बन कर
प्रेमियों कि आशा बन कर
कवियों कि कल्पना बन
बढ़ते अर्धचंद्र के वेश में
पूनम के चाँद की प्रतीक्षा
जीवन की आशा जगाता सा
फिर उलट क्रम में घटते
अमावस के अँधेरे में छुप
बस एक रात के लिए
फिर उज़ालों का सन्देश दे
बढ़ने-घटने के क्रम में

Who is Sachin?

Who is Sachin
Tendulkar ...??
.
Wasim
Akram - A Player Who
Is Directed Gifted By God.
.
Michael Clarke - A
Man Who Has The
Capability To Hit The
Same Ball In 5 Different Areas On The Field...
.
McCgrath - A Player Who
Can Hit You For Sixes
inspite Of Your Bouncer...
. Shane Warne - My
NightMare...
.
Steve
Waugh - Our All Plans
Were Made For Him Only...
.
Ricky Pointing -
God Of Straight Drive...
.
Lara - Best Batsmen Of Among All Era "I Want
My Son To Become
Sachin Tendulkar."
.
"We
Did Not Lose To A Team Called India, We
Lost To Man Called
Sachin"-
Mark Taylor
(Aus)
. 'Nothing Bad Can
Happen To Us If We
Were On A Plane In India
With Sachin Tendulkar
On It."
- Hashim amla {SA}
.
"There Are To Kind
Of Batsman In The
World. 1. Sachin
Tendulkar And 2. All The Others.-Andy Flower
(ZIM)
.
"I Have Seen God.
He Bats At No.4 For
India In Tests.- Matthew Hayden (AUS.)
.
"Do Your Crime When
Sachin Is Batting,
Because Even God Is
Busy Watching His Batting. - Australian Fan
.
Barack Obama"I Don't
Know About Cricket But
Still I Watch Cricket To
See Sachin Play..Not Because I Love His Play
Its Because I Want To
Know... The Reason Why
My Country's Production
Goes Down By 5% When
He's In Batting"...

Moon : Beacon of Love

चाँद का हुस्न बेमिसाल है मगर
कहते हैं रौशनी तो उधार की है
हमें क्या लेना हकीकत से यहाँ
हमने चाँदनी में मोहब्बत की है
हमें अपनी मोहब्बत का सुरूर है
हमने कब इस की तस्दीक़ की है
रहनुमा है चाँद इस मोहब्बत का
हमने मोहब्बत की ताकीद की है
Moon is immensely beautiful yet
Some say lives on borrowed light
We are not bothered about reality
We have loved in the moonlight
We are just engrossed in our love
Don't want to carry a searchlight
Beacon is the Moon of our love
We just enjoy love and the moment

Friday, November 15, 2013

Crass


Gone are now the olden days
When there were statesmen
Camaraderie among adversary
Of course they were politician
The ways of campaigning too
Within limits of sophistication
There were the political agenda
Albeit no personal insinuation
Now decency is in backburner
New ways to lure voters for win
Language of streets the crass
Free for all without exception
In parties without the principles
Everyone has individual ambition
Vested interests reign supreme
No one now cares for the nation

मेरा क्या जाता है


आरज़ू धूमिल होने लगी हैं
वक़्त के बदले रंगों के साथ
कोई अनजाना सा समां है
इन नए-नए चेहरों के साथ
पुराना याद नहीं किसी को
पर पुराने प्रसंग मरोड़ते हैं
अपने मतलब की ख़ातिर
ये किसी को नहीं बख्शते हैं
भीड़ की मानसिकता है बस
सब कुछ बदरंग हुआ जाता है
भाड़ में जाये ज़माना कह कर
हरेक सोचता मेरा क्या जाता है

Tuesday, November 12, 2013

क़ामयाब


हम ने कभी नहीं की थी कोई बात
तोड़ कर यूँ चाँद-तारे ले आने की
मालूम है अपने हुनर की ये बात
सब ज़मीन से हासिल करने की

हम ख़ुश हैं नाक़ामयाबी से अपनी
हम में औरों की तरह नहीं हैं हुनर
हमें कामयाबी मिली है बस इतनी
नहीं तलाशते जो भी है उस से इतर

हम को होता नहीं रश्क़ तुम पर
हाँ वाक़िफ हैं तुम्हारी फितरत से
तुम्हारी राहें तुम ने ही ख़ुद चुनी हैं
आज जीते कल हारोगे क़िस्मत से

तुम्हारी नज़र में तुम क़ामयाब हो
हमारी नज़र में हम ही क़ामयाब हैं
जो भी कह दो तुम अपनी मत कहो
मेरी नज़र से देखो हम क़ामयाब हैं

हमसफऱ

वो न थे जब हमारे पास उनके खयाल आते थे
ज़िन्दगी ख़ूबसूरत होने का एहसास कराते थे

फूलों में बहार में चाँदनी में वो ही दिखाई देते थे
मौसम कोई भी हो बस वही पास नज़र आते थे

ज़िन्दगी के सफ़र को और हसीन बना जाते थे
हमारी मंज़िल नज़दीक़ है वो ये याद दिलाते थे

लोग तो बस चाँद सितारों की तमन्ना करते थे
पर हमें महताब कभी आफ़ताब नज़र आते थे

आज भी ज्यों ही वो मेरे जेहन में चले आते थे
कल के ही से आज भी हमसफऱ नज़र आते थे

Monday, November 11, 2013

If Politics is Good, Politicians too Have to be Good ~ Udaya Pant


Politics even in its narrowest sense deals with the statecraft; and it pursues the path of improving the political systems and individual ambitions for the betterment of the society and people. Nonetheless, in modern parlance politics is generally viewed more as conman-ship than the statesman-ship, for whatever reasons.

It is untenable to say that politicians have played the spoilsport in politics. In the democratic countries people reign supreme and they decide who should represent them. It’s possible to be fooled by populist gimmicks once not always. After all they get the chance to make use of their franchise intermittently. No one has stopped them from becoming responsible electorate to vote for the best possible interests of themselves. The frenzies and war-like dramas in elections everywhere is not possible without the support of people joining the party hosted by politicians during elections.

As responsible citizens we have failed to be responsible electorate and voters and have taken the recourse to politician-bashing to escape from the blame we all need to share and be ashamed of. I for one wouldn't blame politicians more than the voters behave as irresponsible citizen and owners of the sovereignty!

Without politics, the World polity and political systems are unimaginable. Gone are the days when monarchs, oligarchs or the authoritarian were all powerful! The majority in whatever form is a prerequisite of running the state of affairs if the state by politicians. As citizen we provide them the support and majority all the time.

As the main stakeholder in pre and post elections scenario, people have to make sure that the politicians are good or share and own up the blame on to themselves for not finding and electing good politicians.

Thursday, October 31, 2013

तमसो मा ज्योतिर्गमयः


तम रहे न कोई पास तुम्हारे
ज्योति रहे जगमग जग में
दीप जलाये रखना तुम बस
आशा खुशियाँ बन महकेगी

मैं भी शामिल सुख में तुम्हारे
यह करूँ कामना इस दीवाली
देश-देश छा जाये यूँ उजियारा
हर गली सुखों से बस चहकेगी

जाति धर्म और देश काल तज
सब जन हित रख लेना मन में
एक दीप जलाना तुम भी ऐसा
खुशियाँ जग जन में यूँ बरसेंगी

Wednesday, October 30, 2013

न जाने क्यों

जीवन का वह क्षण
एक प्रस्तावना सा था
सोचा था निबंध बनेगा
प्रसंग तो थे लेकिन
लिखना बड़ा कठिन था
उपसंहार स्वरुप कुछ नहीं
उप-शीर्षक रहते हैं
अब भी ध्यान में यदा कदा
प्रसंग बिसरा गए थे
यहाँ तक कि विलुप्त हो गए
किंकर्तव्यविमूढ़ सा मैं
सिंहावलोकन कि भाँति
न जाने क्यों अब भी
तलाशता रहता हूँ
विलुप्त हो चुके प्रसंगों को

Monday, October 28, 2013

ज़िन्दगी की शरारत

अक़सर जी करता है हर हाल में मुस्कुरा दूँ
कोई फ़िक़रे भी कसे तो मैं बस मुस्कुरा दूँ
कुछ अपने इस अंदाज़ की तर्ज़ पर ही सही
कुछ बेवक़ूफ़ों की यूँ अक़ल पर मुस्कुरा दूँ
कभी ज़माने के ज़ुल्म-ओ-सितम पर तो
कभी ख़ुद की ही बेवक़ूफ़ियों पर मुस्कुरा दूँ
कभी उन मोहब्बत भरी निग़ाहों के लिए तो
कभी बिसरी मोहब्बत दास्ताँ पर मुस्कुरा दूँ
उस शोख़ शरारत भरे लम्हों को याद कर के
उन्हीं शोखियों पर ही कभी मैं यूँ मुस्कुरा दूँ
ज़िन्दगी के बचे खुचे अरमान गिन कर मैं
ज़िन्दगी की ही हसीन शरारत पर मुस्कुरा दूँ

Sunday, October 27, 2013

Single Life Time


Could be often pleasant
At times not so pleasant
Depending on our mood
The blowing of a breeze
The thoughts of our love
Company of the people
In various moods, colors
The sound and rhythms
Of music, of nature, wild
Chirping of many birds
Or the pin-drop silence
The sense of belonging
The taste of the cuisines
The entertainment ways
Weathers and changes
Travels and places many
Or just lazy days around
The morning sunshine
Dusk, dawn and nights
The philosophy of living
And all its open secrets
Times of and in our lives
Bring in so many colors
In just a single life time

Solace


Those living life as it flows
Bear all that happiness glows
Albeit some ways may sound ill
Life remains the most beautiful
It can sound bad unreasonably
For those take more seriously
It is a zigzag in the sequence
Life’s ways are sure the weird
It brings thread after thread
Those who will well understand
Life is like film on the screen
Everything is never all green
Life smiles at just one thing
Seeking solace in everything

Saturday, October 26, 2013

बन्दगी के हुनर


लोग औरों से अलग दिखना चाहते हैं
हम सामान्य जन सा दिखना चाहते हैं
लोग कुछ भी पाकर ख़ुश नहीं रहते हैं
हम जो मिल गया उसी में ख़ुश रहते हैं
लोग औरों से प्रतिस्पर्धा करते रहते हैं
हम बस स्वयं से ही प्रतिस्पर्धा रखते हैं
लोग नए-नए परिधान में दिखाई देते हैं
हम सामान्य पोशाक में प्रसन्न रहते हैं
लोग बड़े होटलों का खाकर जतलाते हैं
हम बस घर की दो रोटी में ख़ुश रहते हैं
लोग तो चाँद पर जाने की बात करते हैं
हम यहीं ज़मीन पर चलते ख़ुश रहते हैं
ये नहीं कि हम ख़ुद को कम आँकते हैं
हम ज़िन्दगी की हक़ीक़त में झाँकते हैं
लोग तो खुदाई में बड़ा यक़ीन रखते हैं
हम तो बन्दगी के हुनर तलाशते रहते हैं

अपनी तरह


ज़िन्दगी का अपना फ़लसफ़ा
ये अपनी तरह चलती जायेगी
कभी काम तो कभी आवारगी
ये हर तरफ हमको ले जायेगी
ज़िन्दगी जब तक भी रहेगी
हमारी याद तो तुमको आयेगी
हम-तुम यूँ मिट जायेंगे मगर
हमारी ये कहानी रह जायेगी
अर्श से देखना फ़ितरत नहीं
जमीं ही सब कुछ दोहराएगी
रूह क्या है नहीं मालूम मुझे
जो हाथ आई मेरी हो जायेगी

Friday, October 25, 2013

Lone Wanderer

People live in confusions
About self and associations
Of others, self and World
Fellows and companions
With the preponderance
Of thoughts wandering
Passing time with the time
Actions look at meaning
Chasing dreams of mirage
Realizing it soon or later
At the end of it all nothing
But being a lone wanderer
From beginning till the end
Like the days of a squatter

Thursday, October 24, 2013

रुखसत


तुम इस क़दर पास आया न करो
हमसे यूँ दिल तुम लगाया न करो

वक़्त के जो ज़ख्म थे अब भर चुके
हमको फिर वो याद दिलाया न करो

आशिकों की नहीं कुछ कमी है यहाँ
हमको शामिल उधर न किया करो

कभी बहके थे हम अब बहकते नहीं
बहकी बातें यूँ हमसे किया न करो

ये तनहाइयाँ भी हमसे खुश हैं इधर
मेरी तनहाइयों को सताया न करो

लो रुखसत कहीं और का रुख करो
ऐसे हमको बस तुम सताया न करो

Saturday, October 19, 2013

Thumbs Up

I had never asked for the Moon
Yet I wanted some things soon
My needs that were so limited
Started getting now unlimited
Before it beyond proportions
I started doing introspection
I found no wrong with desires
So long life or living admires
Whatever hasn't come by my way
It wasn't meant for me anyways
Love, wealth, health; anything
Yet I must strive for anything
Without running to catch them up
Just give all them a Thumbs UP!


Smiles

I never cared or got worried
Smiles always I had carried
People around had envied me
I wondered why it's just me
Why can't they look like me
Their worries were beyond me
The times had started passing
Ambitions went on increasing
I then tried to be competitive
Things started look repetitive
I earned money and the wisdom
'Me'started receding to blossom
I made new friends and the foes
Each one was adding to my woes
The worries then arrived my way
And those smiles had gone away

Friday, October 18, 2013

मधुरस की धार

होगे तुम मधुरस की धार तुम्हारे स्वर में
मैं तो बस रही प्यासी ही हूँ अन्तर्मन तक
तुम सृजनाधार कहो स्वयं को यों सुर में
मैं खोज रही किसी विहग के सुर अब तक
जीवन की गति के पँख न जाने कैसे होंगे
मैं सोच रही कैसी होती होगी गति अब तक
उन गीतों की रागिनी कब आल्हादित कर देगी
है नहीं भान जिन के सुर, लय भी अब तक
उस पर्वत-शिखर के शीश सी ही टीस है मेरी
सब दूर दूर दर्शन से छवि निहारते अब तक

Thursday, October 17, 2013

Some People Live in Contractions Without Realizing Them!


Some people do nothing else than criticize others! Be them the business people, politicians, media, jurists, public servants, utility workers; or even the teachers. They will find fault with everything and every person on every issue. There is something they must say against at all times and situations; as if they are the best carriers of wisdom and leadership in the World and other people shouldn’t be bereft of their opinions and ‘words of wisdom’.

When there is surplus food grains rotting in the warehouses and in open they argue that this should have been rather supplied to the poor for free! On the contrast, if government came up with a scheme of providing food grains to the poorest at nominal subsidized prices, they will start criticizing this as a populist move of the government and an unprofessional and unwise decision at the cost of the tax-payers!

If there is a movement for the Ombudsman and legislations from the streets by common people, they would tell them with great ‘wisdom’ that for legislative reforms one should contest elections and come to the legislature to represent the people and their voices. The same people start criticizing the movement leaders vehemently, when they form a political party to do so.

They would preach that government should ensure fair-play and least intervention in economic and business matters and be restricted to only supervision and policies related functions. When the prices are decontrolled, they start cribbing about open nepotism and brand graft taking place the lead roles in the policy decisions of the government.

They would swear by the secularism and welfare state; but then they get jittery over the actions of the government which are of secular nature and intents; without at all having any knowledge or wisdom of the statecraft in such matters! Even their own behaviors in their individual and social life remain skewed with the contradictions that manifest in many ways!

They would be very vocal about the rights of the downtrodden and those who are backward and deprived people among the society for long. When it comes to their turn to make way for them (having already come up from there and in balance with the others) they would vehemently deny making ways for them and term it as the conspiracy against their ‘class’ (or caste) by the forward people!

They would sing songs about their opinions and resolves about the national service and to serve the national cause; but would not desist from evasion of taxes or making any contributions for the cause that are seemingly very close to their hearts!

They would be in all praise for the people and organizations that work for the rights of the women and children; but on their turns (should there be a situation demand) will just avoid, ignore or runaway from any scene where their presence or the helping hands may be very important. The double standards will also be very blatant in their behavior and approach when it is a comparison of their own family members and the other people in general!

May times one may see people demonstrating against the exploitations of various kinds and the injustice meted out to the vulnerable sections of the society. While some people mean it, the others will only lend their lip-sympathy without meaning an iota of this. Their flash-presence is meant for their own ego satisfaction and soon they will leave the scenario under various excuses or alibi; without any intentions of coming back to the site!

I have seen the protagonists and activists making the small children and women work in their households for a paltry sum; and under inhuman conditions. Being an activist or a protagonist is more like a fashion statement for such people!
Who doesn’t know about the misdeeds of the so called saints and sages these days, who have made headlines in news repeatedly in India and elsewhere? Previously, people used to become a sage or a religious preacher by renouncing the worldly comforts and wealth; now the story is reversed! The sainthood and being a preacher is a well managed and highly remunerable profession now!

There are many more examples I can cite from the people in public life, public services, sports, entertainment and glamour industries and so on. The point that I tried to make here is there are many people who practice and live in contractions and contrary practices. I am certainly not trying to say that all people are alike.

There are certainly people, who are well meaning, well intentioned, who walk their talk to the extent they can. The society and the World is run by them and not by those living in contradictions and adopting the double standards!
Finally, I do not know why I wrote this all but I can tell you it’s written for me and not for anyone; anyways the thoughts here are too common to be told anyone and many people will have the same or similar experiences!

Tuesday, October 8, 2013

कभी तूफ़ान कभी शोलों सी

जाने क्या मौसम की यहाँ गाज़ गिरी
ओस की बूंदें भी यहाँ ओलों सी गिरीं

बचाये रखने की कोशिश तो करी हमने
सर्द मौसम सी हवा में बिजली सी गिरी

दिल को बहलाया लाख तरीक़ों से हमने
दिल के हर कोने में बस आँधियाँ सी चलीं

ज़ख्म सहने की कोशिशें तो कीं थी हमने
हर दफ़ा सामने वहीं वो औंधे मुँह थीं गिरीं

हसरतें संभाल रखीं थीं जो दामन में अपनी
कभी तूफ़ान और कभी वो शोलों सी गिरीं

साक़ी की तमन्ना

ये तो साक़ी की तमन्ना थी कि पी लें हम भी
वरना यूँ जाम-ए-ज़हर पीने में यहाँ रखा क्या है

दिन ढले शाम की इज्ज़त की ख़ातिर पी लेते हैं
वरना इन ज़हर के घूँटों को पीने में रखा क्या है

जाम-ए-महफ़िल से बहलाते हैं हम ज़िन्दगी को
वरना यूँ चार दिन को यहाँ जीने में रखा क्या है

दोस्ती ही कर ली है यहाँ मय के प्यालों से हमने
वरना घुट घुट के यहाँ बस जीने में रखा क्या है

दिल जला कर पिलाये जा साक़ी जाम पर जाम
आग यूँ बस छुपाये अपने सीने में रखा क्या है

Wednesday, October 2, 2013

In the Name of Peace

All such prevalence of acts
For spearheading of peace
Threatening small nations
The aggressive state crafts
A diplomatic belligerence
Insurmounting arms race
The arms deals and sales
The proxy motivated wars
Prevailing trade relations
Economic or commercial
For those political motives
The alignments disguised
Mutual friendship by pacts
Without intending a peace
All in the name of peace!

Saturday, September 28, 2013

शहीदों की चिताओं पर ( Shaheedon Ki Chitaon Par) ~ by जगदंबा प्रसाद मिश्र ‘हितैषी’


शहीदों की चिताओं पर ( Shaheedon Ki Chitaon Par) - जगदंबा प्रसाद मिश्र ‘हितैषी’


उरूजे कामयाबी पर कभी हिन्दोस्ताँ होगा
रिहा सैयाद के हाथों से अपना आशियाँ होगा !

चखाएँगे मज़ा बर्बादिए गुलशन का गुलचीं को
बहार आ जाएगी उस दम जब अपना बाग़बाँ होगा

ये आए दिन की छेड़ अच्छी नहीं ऐ ख़ंजरे क़ातिल
पता कब फ़ैसला उनके हमारे दरमियाँ होगा !

जुदा मत हो मेरे पहलू से ऐ दर्दे वतन हरगिज़
न जाने बाद मुर्दन मैं कहाँ औ तू कहाँ होगा !

वतन की आबरू का पास देखें कौन करता है
सुना है आज मक़तल में हमारा इम्तिहाँ होगा !

शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले
वतन पर मरनेवालों का यही बाक़ी निशाँ होगा !

कभी वह दिन भी आएगा जब अपना राज देखेंगे
जब अपनी ही ज़मीं होगी और अपना आसमाँ होगा !

Thursday, September 26, 2013

बेताबियाँ / Impatience

वही राज़ सीने से निकलना चाहते हैं रह रह के
जिनको गहरे से छुपा के रखा है हमने हर बार
जितना भी छुपा लें हम दिल के अन्दर गहरा
बेताबियाँ मोहब्बत की बढ़ती जाती हैं हर बार
The same secrets are raring to come out
Those I had kept buried deep inside heart
The impatience of love always on the rise
Howsoever I may hide it deep in my heart

Wednesday, September 25, 2013

आशियाना / Abode


चार दिन का ही तो यहाँ आशियाना था
लेकिन कहने को एक अच्छा बहाना था
हम नहीं कहेंगे वो जिन्हें आज़माना था
चाहे कुछ भी हो ये अच्छा अफ़साना था
It was an abode just for few days
But it was a very good pass-time
Not I those who tested shall state
Whatever it was but good storyline

Sunday, September 22, 2013

ख़्वाब

वज़ह ऐसी कुछ न थी फिर भी
कभी ख़्वाब देखा करता था मैं

बड़े खूबसूरत होते थे मेरे ख़्वाब
पूरे होते भी देखना चाहता था मैं

जानता था ख़्वाब नहीं होते पूरे
फिर भी एक सुकून पता था मैं

ख़्वाबों की दुनियाँ एक छलावा
इस बात का एहसास पाता हूँ मैं

ख़्वाब नक़ली सोच भी जगाते हैं
ख़्वाब नहीं देखना चाहता अब मैं

ख़्वाब फिर भी आ जाते हैं जब
तो ख्वाबों से नहीं कतराता हूँ मैं

Saturday, September 21, 2013

एक मुट्ठी धूप

मैं एक मुट्ठी धूप लाने चला था
हथेलियों तक तो वो आई भी थी
सोचा था शायद संभाल ही लूँगा
बंद मुट्ठी में आसमान की तरह
लेकिन मुट्ठी बंद होते ही सारी धूप
अचानक जाने कब हवा हो गई थी
शायद उसे बंद रहना पसंद न था
या उसका हक़दार हर शख्स था
अकेले मेरी हसरत क्यों पूरी होती
अब मैं समझ गया हूँ अच्छी तरह
देने वाले पर लेने वाले का भरोसा हो
लेकिन फिर भी हुक्म नहीं चलता
पहले मुझे ये सब मालूम नहीं था
अब मैं धूप के पास चला जाता हूँ
अपने हिस्से की धूप सेंक लेता हूँ

Friday, September 20, 2013

मौसम की बयार से

मौसम की बयार से हो तुम भी तो
चाहे से अनचाहे भी तुम आ जाते हो

बारिश की रिमझिम से बरसाते हो
भीगे मौसम में ज़ज्बात भिगाते हो

कभी बन बहार ये मन हर्षा जाते हो
फिर भी पतझड़ ऐसा क्यों ले आते हो

सर्द भी और गर्म भी हवा तुम लाते हो
पर वसंत की खुशबू भी तो ले आते हो

हर मौसम मन की तरंग जगा जाते हो
तन मन की मादकता महका जाते हो

The Mirror

So you thought
I am just a silent nature
Devoid of my locale
The whispering flora
Awesome fragrance
Of the lovely flowers
Carried around by winds
You may have thought
I don't have a mirror
To look at the colors
The soothing beauties
To all eyes like you all
Standing by my side
This very beautiful lake
Also makes me look at
The shades of colors
The magnificence of
My own surroundings!

Leaf-fall!

Those of us who think
They are perennial
Are either mistaken
Or trying to pose different
Come the times of leaf-fall
Shed our leaves we all
Recognizing every bit
Of the cycles of nature
Through the weather
We do feel sad, momentarily
Yet come back to realize
The cycle of old and new
Destruction and construction
Death and life cycle
The mortality and the change
Paving new ways
A continuous cycle of
Seeing and believing
Liking and forgetting
The lives so inane
Just like you humans!

चार दिन

वही बातें गम की हैं ख़ुशी की भी कभी कहा करो
रोज़ कहते हो वही बातें कुछ तो नया कहा करो

राज़ रखते दफ़न तुम अपने सीने में हमेशा बस
कभी कुछ राज़ की बातें खुलने भी दिया तो करो

किया न फ़र्क़ जो उसने तो फ़र्क़ यूँ तुम क्यों करो
सताया अगर ज़माने ने तो सताया तुम क्यों करो

वक़्त को कोई कोसे क्यों वक़्त में रह लिया करो
दुनियाँ चार दिन ही सही कुछ तो जी लिया करो

दुश्वारियां

यहाँ की सारी बस्तियां उजड़ गईं
आसमान छूती इमारतें बन गईं

और ज़्यादा ऊँचा उठने की ख़ातिर
महत्वाकांक्षायें भी बढ़ती ही गईं

वक़्त के साथ चलते वक़्त न बचा
और वक़्त से ही दूरियाँ बढ़ती गईं

अब वक़्त ने वक़्त न दिया बाक़ी
वक़्त की ही देनदारियाँ बढती गईं

हमसफ़र अब हम से करते हैं गिले
गाहे बगाहे रह्गुजरियाँ बढती गईं

बड़ा आसान समझे थे ज़िन्दगी को
आसानियों से दुश्वारियां बढती गईं

Thursday, September 19, 2013

तुम को

क्या कहा तुमने अभी अभी
कोई आवाज़ सुनाई दी तुम को
शायद भ्रम होगा तुम्हारा
या फिर मैं ही भूल गया हूँगा
कुछ कहने की सोच तो रहा था
फिर ये भी तो सोचा था मैंने
कैसे कह पाऊंगा तुम को
चलो ये भी तो खूब रही
सुनाई देने का ज़िक्र किया है
पर आभास भर हुआ है तुम को
क्या कहना चाहता था मैं
नहीं बता सकता मैं तुम को
जानता हूँ जानना चाहते हो
मुझे ये भी लगता है
बताने की क्या बात है
ज़रूर होगा एहसास तुम को

Wednesday, September 18, 2013

बिडम्बना

समय को कोई नहीं बाँध पाया सुना है
लेकिन हर कोई समय से बंध गया है
समय-चक्र की भी अपनी बिडम्बना है

हर मूक हमेशा वाचाल होना चाहता है
पिता सन्तान के वाचालपन से त्रस्त है
संतान की वाक कौशल की बिडम्बना है

राष्ट्र व समाज समता सरलता चाहते हैं
राजनेता नौकरशाह सब सत्ता चाहते हैं
व्यक्ति की समाज के प्रति बिडम्बना है

न्यायशास्त्री न्याय और कानून चाहते हैं
अँधा कानून न्याय को प्रायः नकारता है
न्यादविदों की अपनी यही बिडम्बना है

साम्राज्यवाद नहीं है पर साम्राज्य चेष्टा है
बड़े राष्ट्रों की सर्वत्र ही बाज़ार पर पकड़ है
छोटे राष्ट्रों की बने रहने की बिडम्बना है

दार्शनिक जीवन और समाज को देखते हैं
वैज्ञानिक परिकल्पना में यथार्थ तलाशते हैं
जीवन के आयामों की अपनी बिडम्बना है

ख़ुद की खातिर

तुम्हारा वक़्त है इस वक़्त
पैंतरे तुम भी दिखा लो सब
जब कभी आयेगा हमारा वक़्त
ये सब कुछ हम भुला देंगे
तुम से ही जो हो जाते हम
तो ख़ुद को ही हम भुला देंगे
तुम हम को आज़मा लेना
हम ख़ुद को ही आजमाएंगे
जगत की रीत से हट कर
नज़र तुम को हम आएंगे
न ख़ातिर ये तुम्हारी सब
ख़ुद की ख़ातिर हम निभाएंगे

ये आवाज़ें

सताती थीं हमेशा बस जब
जिंदा मेरी अनकही आवाजें
इसी ताबूत में हैं अब बंद
मेरे साथ मेरी ये आवाज़ें
कही भी ना सुनी भी ना
किसी से हमने ये बातें
न समझे तुम न समझे हम
बस आती रहीं ये आवाज़ें
न कह पाए न कर पाए कुछ
पर संजो रखीं ये आवाज़ें
तुम्हारे मन भी गूंजती होंगी
अक़्सर शायद मेरी ये आवाज़ें

तुमर धन्यबाद..in Kumaoni

लोग यहाँ कहाँ कहाँ बटी ऐ बेर
हमर ले दुःख दर्द समझ गईं
तुम ले हमरे आदिम भया
मीडिया में आपण प्रचाराक लिजी
हमर दगड़ फोटू खिंचा गोछा
तुमर धन्यबाद छू

लोग निस्वार्थ भाव ल्हि बेर
यहाँ की की पूजे गईं
हमर बीच ऐ बेर रै ले गईं
आपुं नि खे बेर हमन खवा गईं
तुम ले ऐ बेर हमर बीच
आपण आदिम जै भया
हमर बणाईं नाश्ता खे गोछा
तुमर धन्यबाद छू

कई देशी-विदेशी संस्थाक लोग
कतिपय कम्पनीक लोग
हमर गाँवन गोद ल्हि बेर
हमर नन्तिनकि शिक्षा लिजी
समर्पण भाव लि बेर आईं
हमन आपण ऋणी बने गईं
तुम पें हमरे आदिम भया
उनर समर्पण में आपण हाथ बते गया
तुमर धन्यबाद छू

लोगनाक ह्रदय व्यथित छन
हमर दुःख देखि बेर आंसू टपकुनीं
हमरि आवाज़ में अपण सहयोग करनीं
हमर दुःख-दर्द सबन कें बतूँनी
तुम आपण आदिम भया
सब ठीक -ठाक छू के दिंछा
फेस बुक में बैठि बेर
हमरि फोटो शेयर करि दिंछा
तुमर धन्यबाद छू !

Wednesday, September 11, 2013

कागा

बस एक आँख मिली हो जिसको
वो कोयल के सुर में क्यों बोलेगा

तब कर्कश सम्बोधन काक करेगा
जब जब कोयल के सुर सुन लेगा

जन्मा हो जब काक योनि में जो
विवेक मनुज सा कहाँ से लायेगा

उसके स्वर के भी अपने से सुर हैं
जो समझेगा वो ही तो पहचानेगा

उसकी काँव-काँव में भी मधुर सुर
कोयल से तुलना जब कोई छोड़ेगा

पहचानो वो सुर मिसरी से बोलेगा
कानों में संगीत सम कागा बोलेगा

समझ सुरस सुर यूँ कोई पहचानेगा
बढ़ चढ़ फिर कागा भी रस घोलेगा

Saturday, September 7, 2013

Who Owns Up?


People busy supporting
Those who politicking
The wonderful agenda
Manifestos pouring
People get upbeat
Enthusiasms increasing
In principle for short term
Their role and value on up
Their feelings satisfying
This is a bigger game
Them actually not realizing
The populist slogans
The political wish-lists
Main issues of Economy
On the back seat remaining
Elections everyone eyeing
The large scale spending
By individuals, corporate, others
From unknown sources coming
People and their welfare
Not at stake at all
Money, power, parties do
All frenzies of politics
Then work non-transparently
Without accountability
Shams of performance
Hazy outputs and outcomes
Just the cover ups trying
Who owns up this all
People! Are you thinking?

ज़िन्दगी की तरह

ज़िन्दगी को जियो ज़िन्दगी की तरह ज़िन्दगी खुद-ब-खुद मुस्कुरायेगी
होंगी मायूसियाँ बेवज़ह दिल में अगर उम्र बन ज़िन्दगी मुँह चिढ़ायेगी

ज़िन्दगी रंग पल पल बदलती यहाँ कभी रोना तो कभी बस हँसाएगी
होंगे सदमे यहाँ साथ खुशियाँ दर-ब-दर ज़िन्दगी साथ लेकर भी आयेगी

जो भी भागेगा पीछे हमेशा यहाँ ज़िन्दगी बस मुक़म्मल मिल न पायेगी
इसके संग संग चलो फ़र्ज़ अपना करो इसकी रफ़्तार अपनी दिखायेगी

काम किस्मत से नहीं बनते हैं काम से ख़ुद को देखो खुदाई नज़र आयेगी
चाहे आज़मा देख लो मुख़्तसर बात है बन्दगी ज़िन्दगी का रुख करायेगी

सुर्खरू


तमन्ना मुख़्तसर है
मन में तसव्वुर है
जाने किस बात का
ये छाया सुरूर है

आँखें खोई सी हैं
ख़याल बहके से हैं
हवाओं में खुशबू है
कुछ तो होना ज़रूर है

वक़्त थम गया है
समां बदल रहा है
मन बेक़रार है
और ये दिल मगरूर है

चाहतों के सिलसिले से
फरियाद-ए-मोहब्बत है
इसी माहौल में अपना
मिलन अब सुर्खरू है

Monday, September 2, 2013

बस अंतहीन / The Endless

सत्य का रूप है यह भी
चाहे या अनचाहे भी सदा
जीवन की गति सी बढ़ती
एक अक्षुण्ण पिपाषा ऐसी
स्वप्नवत सी प्रतीत होती
एक विहंगम दृश्य देख कर
तृष्णा वितृष्णा में समाती
देख कर यहाँ रहस्योदघाटन
समय व इसकी गतिशीलता
और इसके विभिन्न आयाम
जैसे एक बस अंतहीन उड़ान
एक नित्य अनंत आकाशगंगा
A form of truth this too is
Knowingly or unknowingly always
Progressing like movement of lives
An insatiable thirst such
Sounding like the pleasant dream
After seeing the bird's eye view
Aspirations soluble in dis-aspiration
Observing the revelation of mystery
Time and it's associated dynamics
And it's facets that are so many
As if being and ever unending flight
An eternal infinite milky-way!

Saturday, August 31, 2013

Well Understood / ख़ूब समझते थे

आँखों में भरी शरारत उनकी हम ख़ूब समझते थे
चुप रहते थे यूँ कि इन्हीं अदाओं पे तो हम मरते थे
कभी-कभी आँखों ही आँखों में दीदार को तरसते थे
शायद वो भी हमारी ऐसी बेक़रारी ख़ूब समझते थे
Naughtiness within his eyes I would understand
But I had kept quite for that's the way I liked
At times I would have a craving to see his face
Such restlessness perhaps he too well understood

Wednesday, August 28, 2013

Times

वक़्त के सफ़र में यहाँ वक़्त बहुत कम मिलता है
जो गुज़र गया वो वक़्त हमें फिर कब मिलता है
मौका हर बार नहीं कुछ या एक बार ही मिलता है
जो हाथ से निकल गया हो वो फिर कब मिलता है
Time is scarce in the journey of the time
The times that are gone seldom we get back
Opportunities too knock once or few times
Opportunities we lost seldom do we get back

Saturday, August 24, 2013

धन तेरी / Hail You


फिर बसंत को छू मौसम
अब अंगड़ाई लींछ यौवन
मदमस्त हे गे यो पवन
मन हेगो छ मेरो चंचल
सुवा कि फिर याद ऐगे
आंखन में छू छाई हर पल
कतु दिन देखीं भईं देखो
याद वीकि ऊंछी पल पल
फूली फूली सब डालिनामा
बांसी रूंछी गीत गेनी कोयल
यो कसी छू माया लागी
अब कसि छू यो पहल
धन तेरी बसंत ऋतू
अरु धन तेरी यौवन! (KUmaoni)
It's the Spring again
Youth taking side-postures
The wind's lusty blows
My mind is wandering
I think of beloved again
Present in my visualization
It's been long meeting her
Remembrance every moment
All branched full of flowers
Cuckoo at her melodious best
What kind of love is this
Whither initiative is this
Hail you the Spring
And you the youth!


Heart of Ocean

तुम्हें तुम्हारी तंगदिली मुबारक़
कोई बात दिल पे नहीं लेते हैं हम
पहचान लो कोई दरिया का नहीं
समन्दर सा ये दिल रखते हैं हम
You be happy with your own narrow-mindedness
I would take nothing to heart be rest assured
Not of a river but of an ocean's heart I have
It's time about for you also to have realized

Friday, August 23, 2013

बादलों की गरज़

तुम्हें शौक़ होगा तो है
बादलों की गरज़ सुनने का
तेज़ बारिश के शोर का
उफनती हुई नदियों की
लहरों के बहाव के नज़ारों का
मेरा तज़ुर्बा अलग है तुम से
मुझे डर लगता है
पहाड़ों की तबाही का
पानी के तेज़ बहाव का
पानी के सैलाब का
जो सब कुछ बहा ले जाता है
ज़िन्दगी भर का सहेज़ा
हर साल हर बार
कहीं न कहीं
किसी न किसी का

Wednesday, August 21, 2013

कतील शिफ़ाई साहेब की खूबसूरत ग़ज़ल


वो दिल ही क्या तेरे मिलने की जो दुआ न करे
मैं तुझको भूल के ज़िंदा रहूँ ख़ुदा न करे

रहेगा साथ तेरा प्यार ज़िन्दगी बनकर
ये और बात मेरी ज़िन्दगी वफ़ा न करे

ये ठीक है नहीं मरता कोई जुदाई में
ख़ुदा किसी से किसी को मगर जुदा न करे

सुना है उसको मोहब्बत दुआयें देती है
जो दिल पे चोट तो खाये मगर गिला न करे

ज़माना देख चुका है परख चुका है उसे
"क़तील" जान से जाये पर इल्तजा न करे

Monday, August 19, 2013

आँसू


ख़ुद ही ख़ुद सह लेते हैं घुटन ये सब छुपा के
छलक जाते हैं आँसू जब ज़ज्बात बता देते

लोग बात बात में बहाने लगते हैं आँसू क्यों
वे सीधे दिल की ही बात क्यों नहीं बता देते

आँख नम हों तो समझने की बात है मग़र
आँसुओं की झड़ी हो कुछ भी नहीं कर पाते

आँसुओं की सच में अगर होती कोई क़द्र यहाँ
हम भी शायद सैलाब यूँ आँसुओं के बहा देते

संभाले रखना इन आँसुओं को अपने ज़रूर
अकेले में फिर भी कभी ये बड़े काम हैं आते

Loop


People spoke
So high of you
When
You had so much
To offer them
Tangible and intangible
Or be it symbolic
To handhold them
Now
They shrug
Their cold shoulders
Try finding faults with
Waiting to revere
The next person
And getting to
Loop in the cycle

Alright

When around you
Everything is alright
World smiles with you
When things are bad
Around you
Half the World
Smiles at you
That’s the time
You need to smile
Just like before
As if
Everything around you
Is or will be
Alright!

Saturday, August 17, 2013

देवभूमि के सरमाये

कुछ भी नया नहीं है
हर साल झेलते आये
बस ये आपदा बड़ी थी
तुम खुद भी देख पाए

हर हाल अपने दम पर
सदियों से जीते आये
एक आह तक नहीं की
तुमको बता न पाए

नदियाँ हों या शिखर हों
हम बस पूजते थे आये
हर ओर मंदिरों में घर में
पूजन हैं करते आये

हम देखते रह गए थे
तुम कुदरत से खेल आये
कुछ तुम तो साथ हम भी
मंज़र समझ न पाये

हम उनके दुःख में शामिल
मेहमाँ जो बन के आये
अब भी भरोसे खुद के
पर तुमको संभाल लाये

हम आपदा के बीच में भी
जीवन के गीत गाते आये
अब तुम भी संजीदगी से
दुःख दर्द समझ हो पाये

फिर आते रहना मिलने
अपने भी हैं यहाँ पराये
आंसू छिपे रहेंगे तब भी
देखो इनकी खुशियों के साये

हिम्मत भी देख लेना
हम फिर संभाल लाये
साझा हैं हमवतन हैं
ये देवभूमि के सरमाये

Thursday, August 15, 2013

Converting / तब्दील

यूँ मायूस होने से हासिल कुछ नहीं
आज कुछ न सही कल की भी बात है
हार को जीत में तब्दील कर देना भी
तहज़ीब और तरक़ीब की ही बात है
Nothing will be achieved by showing gloom
If not today it's still a matter for tomorrow
Converting defeats in to the victory as well
Is a matter of courtesy and methods flow

बागबाँ

बागबाँ की हो शिरक़त चमन में ज्यों
क़ोशिश वतन में सबकी होनी चाहिए

खून से हासिल किया पुरखों ने जिसे
अब सींचना ये गुल वतन तो चाहिए

वतन की आबरू अब भी खतरे में है
नौजवानों को अब तैयार रहना चाहिए

शहादत की न सही आराम की बस
क़ीमत तो कुछ यूँ भी चुकानी चाहिए

कल को कैसा बनाना चाहते हो तुम
आगाज़ की शिद्दत तो दिखानी चाहिए

अस्सलामें ताजदारे जर्मनी ऐ हिटलरे आजम


अस्सलामें ताजदारे जर्मनी ऐ हिटलरे आजम
( annonymous poem written during W-War II..was proscribed)
फिदा-ए-कौम शेदा-ए-वतन ऐ नैयरे आजम
सुना तो होगा तू ने एक बदवख्तों की बस्ती है
जहां जीती हुई हर चीज जीने को तरसती है
जहां का कैदखाना लीडरों से भरता जाता है
जहां पर परचमे शाही फिजां पर सनसनाता है
जहां कब्जा है सीमोजर्क चोरों का
जहां पर दौर दौरा कमबखत मक्कार गोरों का
वो बस्ती लोग जिसको हिन्दोस्तान कहते हैं
जहां बन बनके हाकिम मगरबी हैवान रहते हैं
मैं आज उन बदबख्तों का अफसाना सुनाता हूं
वतन की रूह पर चंद खून के धब्बे दिखाता हूं
हमारे मुल्क में भी पहले कुछ जांबाज रहते थे
वतन के हमदमो हमसाज रहते थे
जिन्हें चलती हुई तलवार से डरना न आता था
घरों पर बिस्तरे आराम पर मरना न आता था
गरज ये साम्राजी भेड़िया झपटा जवानों पर
गिरी बिजली हमारे खिरमनों पर आशियानों पर
लुटेरों ने हमारे दुख्तरे ईशान को लूटा
वतन की रूह को लूटा और आन को लूटा
सुना है हिटलर दुश्मने हिंदोस्ता भी है
हमारे खुश्क खिरमन के लिए बरके शयां भी है
यकीं रख हिंदियों की दुआएं साथ हैं तेरे
दिले बीमार की टूटी सदाएं साथ हैं तेरे
कसम तुझको शिकस्ते फास की ऐ नैय्यारे आजम
कसम तुझको करोड़ों लाश की ए हिटलर ऐ आजम
खबर लेने बकिंघम की जो अबकी बार तू जाना
हमारे नाम से भी एक गोला फेंकते आना
वक्त लिख रहा है कहानी एक नए मजमून की
जिसकी शुर्खी को जरूरत है तुम्हारे खून की

Tuesday, August 13, 2013

दुश्मन क़ौम के


करोड़ों अब भी ग़ुरबत में
सब उन्हीं का नाम लेते हैं
उन्हीं के नाम पर सब ही
अपना ही ईमान खोते हैं

जिन्हें देखो ज़िरह करते
बस आज़ादी नाम लेते हैं
शहर से गाँव तक लेकर
मिलकर भ्रष्टाचार करते हैं

कई नेता बड़े अफ़सर भी
अपनी ही रोटी सेंक लेते हैं
कारिंदे और बिचौलिए भी
अपने भ्रष्टाचार में लिपटे हैं

सियासत की हकीकत से
यूँ अपने ही गुल खिलाते हैं
वतन के रहनुमा बन कर
उसी में बस खेल खेलते हैं

कई रंगों में रंगकर ये सब
वतन को खूब आजमाते हैं
आज़ादी आज़ादख़याली है
इसे सब इस्तेमाल करते हैं

हमारे ही आस-पास हैं रहते
दुश्मन यही सब क़ौम के हैं
हौसले इनके बढ़ते जाते हैं
क्यों कि हम चुप से रहते हैं

अनदेखा


तुम्हें नहीं मालूम इस मासूमियत से
कितने रंग बनते बिगड़ते थे चेहरों में
मेरे सभी अल्फ़ाज़ तक थम से गए थे
ऐसा कुछ ठहराव था तुम्हारी बातों में
मेरी नज़रें तो बस अटक सी ही गई थीं
ऐसी गहराई समाई तुम्हारी आँखों में
देखते रहने का आभास तो होगा तुम्हें
हाँ अनदेखा करना तुम्हारी फितरत में
बस भुलाये से भी भूलता नहीं है अब
न जाने क्या बात थी तुम्हारे चेहरे में

Monday, August 12, 2013

Assorted Quartets

कभी दीदार के लिए तरसने की दुहाई देने वाले
आज हम से नज़र मिलाने से भी करते हैं परहेज़
हम फिर भी उम्मीद रखते हैं उनके वापस आने की
उन्हीं के लिए संज़ीदगी से रखे हैं ज़ज्बात ये सहेज़
Once who sweared by dying of a glimpse of mine
Now tries hard to avoid even eye contact with me
I still have hopes of him coming back by my side
For him lone I have kept secure all emotions of me

तुम जो चाहे करो हमने कब सरोकार रखा है
हमारे मुस्कुराने से तुम्हें मग़र ग़ुरेज़ क्यों है
तुम जो भी समझो हम इसलिए मुस्कुराते हैं
क्यों कि हमें खुश रहना बड़ा अच्छा लगता है
Whatever you may do I never expressed concerns
Bur why you have issues with my smiling methods
Whatever you may think about reason of my smiles
I bear smiles 'cause I like to experience happiness

बड़ी कुर्बानियाँ दी थीं कौम ने आज़ादी के लिए
अब हम हैं शायद मक़सद भी भूले आज़ादी का
आज़ादी कुछ इस क़दर इस्तेमाल की गई यहाँ
लोग मतलब ही भूल गए हैं इधर आज़ादी का
Great sacrifices were made by people to attain independence
And we seem to have forgotten the purpose of independence
The way we all have used here the same very independence
People seem to have forgotten the meaning of independence

हाँ आज भी याद हैं वो शबाब के दिन हमको
जब तुमने मुड़ के भी कभी देखा न था हमको
ज़ीस्त की राहों में अब भी तलाशते हैं तुमको
तुम्हारे एक दीदार की क़सक आज भी हमको
Yes I still remember those days of adolescence
When you turned to look at me not even once
On the paths of life I try finding you even today
Longing for one glimpse of yours is even today


दुनियाँदारी ले जाती है हमें इधर - उधर
कहाँ कहाँ हमारे ख़यालात गुजर आते हैं
जहाज के पंछी जब हैं तो जायेगे किधर
फिर लौटकर वही जहाज पर आ जाते हैं
Worldly things do make us all wander
Where all don't our thought squander
Like birds on the ship thoughts all are
Keep returning back to the ships here

किसी के वास्ते कब कोई होता है फ़ना यहाँ
किस्सों में तो मग़र हाँ सुना है मैंने भी ज़रूर
एक अनकही दास्ताँ है मेरे दिल में बदस्तूर
आज न सही कल मग़र बताऊंगा मैं ज़रूर
Not really people do die for someone else
I have also sure heard in tails or hearsay
An untold story is still intact in my heart
If not today I shall reveal that some day

इब्तदा तो तुमने की थी अंज़ाम तक न पहुंचा पाए
कुछ कमी तुम में थी कुछ हालात भी बदल न पाए
ग़म की कोई बात नहीं फिर भी बस तसल्ली रख लो
इस पार बैठे यहीं हैं तुम मँझधार तक तो पहुंच पाए
You did make a beginning but could't just find finishing
You had some weakness some circumstances adverse
No reasons to get saddened just be satisfied with thing
Others stayed back here unlike your midstream course

मालूम है किसी बहाने से करोगे मेरा विरोध
नहीं लेना चाहते बस हम कोई भी प्रतिशोध
एक नासूर की तरह है तुम्हारा यह प्रतिरोध
अब छोड़ दिया हैं मैंने लगाना कोई अवरोध
I'm aware by any means you will oppose
Yet I would never like to take any revenge
Like an incurable canker is your resistance
I have stopped all obstructions just repose

यूँ तुम कुछ कहोगे हम कुछ कहेंगे
न जाने हम दोनों क्या समझ लेंगे
जब भी बात होगी अधूरी ही रहेगी
कभी जब मिलोगे तभी बात होगी
This way you to say something some I will
I wonder what you understand what I will
Whenever we talk will remain incomplete
When we would meet then we talk in full

कुछ तुमने कहा कुछ हमने कहा
चलो आज हिसाब बराबर ही रहा
कुछ हमने सुना कुछ तुमने सुना
सवाल बाक़ी रहा किसने क्या गुना
You had said some I had uttered some
And the reckoning thus remained equal
I had heard some you did hear some
What was imbibed question remained

ये तो तुमको लगता है यहाँ कि
अँधेरे दूर करने शमाँ जल रही है
तुम्हारी ही लगाई आग में जल
तुम को ही फिर रौशनी दे रही है
That is what you might be thinking
To remove darkness glim is lighting
Actually burning by your own lit fire
It's making your bright surrounding

यूँ मायूस होने से हासिल कुछ नहीं
आज कुछ न सही कल की भी बात है
हार को जीत में तब्दील कर देना भी
तहज़ीब और तरक़ीब की ही बात है
Nothing will be achieved by showing gloom
If not today it's still a matter for tomorrow
Converting defeats in to the victory as well
Is a matter of courtesy and methods flow

तुम लेते रहना हर क़दम इम्तेहान
हम अपना यूँ ही सब्र बनाये रखेंगे
तुम चले जाओ चाहे किसी जहान
तुम्हें इन आँखों में ही बसाये रखेंगे
You keep testing me like this as ever
I shall maintain my patience like this
Whichever World you might leave for
I will keep and behold you in my eyes

Sunday, August 11, 2013

ab initio

I looked for advice
Allover and from many
And I then got
Responses so many
Varied and weird
Good and bad ones
Confusing me altogether
Nothing befitting for
My plan and intentions
When nothing worked
I looked for advice
Within me
My conscience
Taking a call
Of my intuition
I got my advice
We choose not to
Take it as first option
Undermining self
And get proofs of
Getting wrong
Ab initio!

Friday, August 9, 2013

Fringe Benefits

It's time about
To realize
Of good thinking
And at least
All it's unknown
Fringe benefits
That calms us all
In body and soul
Without any
Feelings of guilt
That slowly kills
The soul of people
And individuality
Getting isolated
What's good is
As commonly felt
Collectively!

ज़ीस्त की महफ़िल


है देश यहाँ है देश उधर भी
ये परिवेश है जाना पहचाना
कौन न जायेगा उस पार कहे
सवाल है बिलकुल बचकाना

ये भी सच और वो भी सच है
दुनियाँ ये है बस आना जाना
दो दिन का है सब इधर उधर
कहीं हँसना यूँ हो चाहे हो रोना

यूँ ज़ीस्त के रंगों की महफ़िल
बस हँस लो जीना हो या मरना
मर के जी लो हँस के मर लो
है कौन किसे है किसने पहचाना

ईद और तीज मुबारक़


अब यहाँ अब बारिशों के मौसम बदल रहे हैं
ईद और तीज की दुआओं के दौर चल रहे हैं
तुम तो चले गए मंज़र से अचानक लेकिन
हम अब भी तुम्हें यहाँ नए हाल सुना रहे हैं
कहीं किसी फ़लक़ के कोने तक भी शायद
तुम्हे अब भी यहाँ के ख़्वाब दिखाई दे रहे हैं
पहुँचती तो होगी हमारे अल्फ़ाज़ की ये गूंज
हम यही सोच कर तुम्हे मुबारक़ भेज रहे हैं

Thursday, August 8, 2013

कशीदाकारी

लोग अब यहाँ बेच रहे हैं
अपने ईमान के साथ साथ
मुल्क़ और इसकी हकीकत
हर रोज़ परीक्षा ले रहे हैं
हमारी सहनशीलता की
हर पल हमें आजमा रहे हैं
सब कुछ साफ़ कर सफ़ाई में
लफ़्ज़ों की कशीदाकारी से
अपने हुनर दिखा रहे हैं
हम अब भी इत्मीनान से
अपने पूरे होशो हवास में
मुस्कुराये जा रहे हैं

War and Peace


Wars never solved any issues
Peace never cam permanently
Weird are their movement too
The often move in tandem too
With the outbreak of the wars
Efforts of peace too get started
With the peace just prevailing
Seeds of wars are also sowed
Everyone here swears by peace
Yet they just threaten of wars
On the whole it’s all squared up
Both side lose in war and peace
Its bit more voluntary sometime
When we refer about the peace
So why can’t people compromise
Voluntarily like in case of peace!

Wednesday, August 7, 2013

अमन की बदहाली का दर्द


अमन की बदहाली का दर्द
कुछ इधर भी है उधर भी है

अपने अपने हिस्से की लोग
करते हैं सियासत बस यहाँ
सियासतगर्दों का ये असर
कुछ इधर भी है उधर भी है

अपनी ही बात को दोहराते
अब जान बूझ कर सब लोग
अवाम में मोहब्बत में कमी
कुछ इधर भी है उधर भी है

दिल के ज़ख्मों का दर्द अब
लाइलाज़ समझते कुछ लोग
पर मरहम मलने का इरादा
कुछ इधर भी है उधर भी है

अमन की बदहाली का दर्द
कुछ इधर भी है उधर भी है

अहले वतन

हसरतें लाख क़ोशिश कर भी दफ़न हैं
हम वो हैं जो ज़िन्दा ही ओढ़े कफ़न हैं

साँस लेते तो हैं पर बड़ी मुश्किल में हैं
ज़मीन न सही खुली हवा में दफ़न हैं

हर कोई ही किसी की ख़ातिर उलझा है
हर ओर गवाही सी देता यहाँ दफ़तन है

बस एक खुदाई क़रिश्मे की तलाश है
ज़िन्दगी जीना भी यहाँ तो औसतन है

जाने हम कितनी दास्ताँ समेटे हुए हैं
कोई और नहीं हम ही अहले वतन हैं

ख़्वाब

हर पल तेरा ही नाम तेरा ही सुरूर है
बस किसी मोड़ पर मिलना ज़रूर है
तेरे नाम से जुड़ गई हैं कितनी बातें
जाने कितने मेरे दिन कितनी रातें
अब न कहूँगा जो भी यहाँ दस्तूर है
हाँ थोडा सा तो ये दिल भी मगरूर है
सितम बेवफाई के जितने चाहे करो
बस एक बार तुम भी ठंडी आह भरो
मेरे अरमान भले रह जाएँ प्यासे ही
दुआ है तुम बने रहना अपने जैसे ही
मोहब्बत की खाई हैं इसी की क़समें
बस ज़िन्दगी यहाँ अपनी ही तुम में
ख़्वाब हो तो ख्वाबों में सही सच है
बस किसी मोड़ पर मिलना ज़रूर है

Tuesday, August 6, 2013

सरगम


देखोगे अगर तो
दिखेंगे रंग कई यहाँ
समझना चाहो तो
समझ जाओगे
नायाब नेमतें यहाँ
सुनोगे जब तो
सरगम का संगीत है
गुनगुनाओगे तो
ज़िन्दगी गीत है
कहोगे खुल के तो
सतरंगी ज़िन्दगी कहोगे
देखा जाए तो
आखिर जो कुछ भी है
यही तो है ज़िन्दगी

Sunday, August 4, 2013

तुम्हारा साथ

जब से महके
बागबाँ में फ़ूल
ये मन भी हुआ
गुलो गुलज़ार
तब से चाहा
तुम्हारा साथ
ये मन हुआ
ख़ुद से बेगाना
अब न रहा
मौसम बहार का
न ही रहा
तुम्हारा साथ
ये मन हुआ
बस बेज़ार
फिर भी
यही है तमन्ना
मौसम बदले
फिर गुल खिलें
और फिर से हो
तुम्हारा साथ!

Saturday, August 3, 2013

Durga Shakti's Case Mirrors the Growing Menace of 'Fool of Law' in Governance

I am a staunch supporter and ardent follower of the very important and decisive role of the Civil Service in any country. In the South Asia subcontinent the legacy of the British rule left very rich traditions of the Civil Service. Integrity, neutrality, honesty were the important virtues among the civil servants. The new constitutions after independence also provided scope and safeguards for retaining these core values among the civil servants.

Apart from India, almost all countries in South Asia saw erosion of these values among the civil servants and the politicians or the rulers overpowering the bureaucracy in these countries. The problem then became bad to worse and in most countries politicians have made the civil service as subservient to interests and designs of politicians.

India still has great civil service traditions left and the majority of the civil servants are sensitive, professional and neutral. However, the bureaucrat-politician nexus developed in the field; later strengthens at the provincial and national capital at times. But all this within the boundary of the tenets of good governance and civil service neutrality. Nonetheless, media has never put focus on the right people and right systems and only highlights the wrongdoings and angles of corruption stories; that has good new value for them!

The growing muscle and money power in politics has made the politicians arrogant and flouting the rule of law (and getting away with that)! This has taken a toll on the civil servants and their freedom of being responsible officers within the rule of law. In provinces like UP, Bihar, West bengal, Rajashan, Haryana, Punjab and their likes, the erosion of standards of propriety have been evident.

The net effect of the growing menace of the persecution and harassment of the good civil servants is the increase in the cases of graft, corruption, nepotism and the ever increasing fiduciary risk!

Herald Laski had said,' Let the fools contest; whichever administered well is the best government!' It's so apt in these circumstances for making a resolve by nations to strengthen the role and neutrality and integrity of the civil service.

The case of Durga Shakti Nagpal, a young IAS officer,(NOIDA in India) is a telling example of the political highhandedness and failure of rule of law. The sting bytes and arrogant disclosures of their power by the politicians have proved that the performing the tasks and living up to the reasonable responsibility entrusted on them by the government and Constitution of India. The open support and intervention by the central government and the judiciary also leaves much to be desired. In cases of such blatant exhibition of power any one should have taken suo moto cognizance on the matter.

I salute you and your commitment to duty Durga; you are the shining example of the traditions of the Indian civil service and a role model for many to emulate. Goodness prevails and evil loses always that's what we have been grown up reading aand so shall it be in your case also. Amen!

Law will takes its own course, meanwhile some people should definitely not be allowed to make 'fool of law'!